ध्यान करने का सरल तरीका

दोस्तों आज मैं आप लोगो से अपना ध्यान करने का अनुभव और ध्यान करने की सरल विधि को बाटना चाहता हूं। सबसे पहले तो आप ये तय कर ले कि ध्यान करना है तो लग कर करना है ये नहीं कि के आज कर लिया फिर अगले हफ्ते कर लिया। ध्यान में अगर गति चाहते है और जल्दी चाहते है तो रोज करना पड़ेगा। सबसे सरल तरीका है सक्रिय ध्यान अब सक्रिय ध्यान में क्या करे अपने शरीर को थकाना है और वो कैसे किसी पार्क में जाए और रनिंग करे तब तक करे जब तक अच्छे से थक न जाए और थकने के बाद एक दम आसपास किसी बेंच पर लेट जाए आँख बंद कर लें और बस लेटे रहे कुछ और शरीर की क्रिया नहीं करनी है शरीर को ढीला छोड़ दे रिलैक्स होने दे शरीर को बिलकुल हिलाये नहीं। अब आगे क्या करना है आँखे बंद रहेगी अब इंद्री का इस्तमाल करना है जैसे आसपास की आवाज़ों को सुने जैसे पक्षियों की आवाज़ सुने उनके चेह्चाने की आवाज़ सुने। थकने से पसीना आया होगा और हवाएं ठंडी महसूस होंगी उसे महसूस करे मतलब अगड़म संग्रम न सोचे अपने ध्यान को केवल इन्ही चीज़ो पर केंद्रित करे। आपको पता भी चलेगा के कब आधा पौना घण्टा बीत गया है। जब आप रिलैक्स हो जाये तो धीरे धीरे आँखे खोले पहला अनुभव तो यही होगा जब आँख खोलेंगे तो आपको लगेगा कि आँखों में काफी रौशनी सी आगयी है आँखे खोल ले आसमान को देखे खाली सबकुछ खाली दिखाई देगा आपके भीतर भी कोई विचार नै महसूस होगा उस रिलैक्स मूमेंट का आनंद ले ५ मिंट तक उसके बाद आराम से उठे। आप इस क्रिया को प्रातःकाल रोज करे। कुछ दिनों के भीतर आपको ध्यान का अनुभव होना शुरू हो जायेगा।10 दिन इस क्रिया को करे।

Read the rest of this entry »

Advertisements

ABOUT OSHO — Meditation for Beginners

क्यों करेगा कोई मुझे याद बेवजह ! ऎ खुदा लोग तो तुझे भी बेवजह याद नहीं करते ! ओशो की कुछ ऐसी बातें जो कम ही लोग जानते हैं…. उज्जैन। 11 दिसम्बर 1931 को ओशो का जन्म हुआ। सातवें दशक के मध्य में रजनीश नाम के एक व्यक्ति ने लोगों के कानों में धमाके के […]

via ABOUT OSHO — Meditation for Beginners

%d bloggers like this: